hindi

मेरा एकांत

Posted on Updated on

मेरा एकान्त अक्सर ताने मारता है
कि तुम क्या हो और दिखाते क्या हो… 
क्यों नहीं एक बार झटक देते सिर 
चुका क्यों नहीं देते उधार मान्यताओं का 
दहकती हुई किसी कविता की आग निचोड़ो
नेपथ्य से निकल कर कह डालो अपने संवाद 
मुक्त करो किसी पत्थर में फंसी मूरत 
या तूलिका से गढ़ो कोई आकाश 
जिसमे पंछी सूरज से गलबहियाँ करते हों 
तुन जिस तरह उस लड़की से
विदा ले रहे थे 
मैं समझ गया था 
तुम चप्पू भले चलाओ
घाट से बंधन नहीं खोल सकोगे 
उड़ान कितनी ऊँची कर लो
चरखी से डोर नहीं खोल सकोगे 
उछालो न कोई नाद चौताला 
नोच फेंको मुखौटे  
वरना जब भी मिलो गे अकेले
छोड़ूँगा नहीं 
जबकि पता ये भी है
गोलचक्कर में भागोगे
तो कहाँ जाओगे 
जब भी खुद से लड़ोगे
मुँह की खाओगे
-पद्म सिंह 15-03-2017

Advertisements

अम्मा

Posted on Updated on

जाड़े की सुबह

एकदम तडके ही

मेरे तापने को

अलाव जला देती हैं

फिर ओखली में कुटे

मांड वाले चावल के लिए

अदहन चढा देती हैं

बहुत जतन से मुझे पोसती हैं अम्मा

मुझे नहलाती है कस कस के

जमी हुई कीचट साफ करती हैं

मै सिसियाता हूँ ठण्ड से

वो गरियाती है मुओं को

जो मुझे खेलने को साथ ले गए

फिर अनायास मुझे देख मुस्का देती हैं अम्मा

हथेली में मेरा चेहरा पकड़

तेलहुंस बालों में कंघी करती हैं

आँखों में काजल डाल

माथे पर डिठौना लगाती हैं

और एक पल में

राजा बाबू बना देती हैं अम्मा

मुझे मेरे भगवान दिखाती हैं

झुक कर प्रणाम करवाती हैं

या किताबों के फटने पर

विद्या माता का डर दिखाती हैं

और कुछ इसी तरह मुझमे

आस्था का दीप जलाती हैं अम्मा

होली की सुबह

उबटन लगाती हैं

सरसों के दाने उवार कर

फिर कच्चे धागे से मेरी नाप ले

होलिका मैया में डाल देती है

और अगले साल मेरे बड़े हो जाने का

स्वप्न सजाती हैं अम्मा

द्वार पर किसी याचक बाबा को

मेरे हाथों छोटी सी टोकरी से

धान दिलवाती हैं और

इसी तरह मेरे लिए

बहुत से असीस इकठ्ठा करती हैं अम्मा

स्कूल से जल्दी भाग आने पर

या मेरे माटी में खेलने पर

मुझे डांटती हैं

कभी कभी गाल को लाल

या कान को खटाई कर देती हैं अम्मा

और इसी बहाने

यादों में ही सही

एक एक संस्कार

फिर से जगाती हैं

संवारती हैं मुझे

मेरी सब पूंजी

बनावटी उसूल

परत दर परत चेहरा

सब छीन कर

दो पल को

मेरा बचपन लौटा देती हैं अम्मा


// //