दिल्ली सोशल मीट 11-4-16

Posted on

फेसबुक वारियर्स… !! दिल्ली मीट !
लोग कहते थे आग बुझ गयी है, राख़ है ये 

जरा कुरेद के देखा तो मशालें निकलीं।
ये शे’र लिखते हुए मैं उम्मीद और नए उत्साह से भर जाता हूँ… सोशल मीडिया को निरा लफ़्फ़ाज़ी मञ्च और हवा हवाई कहने समझने वालों के लिए यह समझ लेना चाहिए कि वैचारिक क्रान्ति की जो जाग हुई है वो एक दिन आग भी बनेगी… और 
जो समझते हैं यहाँ खून नहीं पानी है… 

उनसे कह दूँ के ये दरिया बड़ी तूफानी है …. 
दिल्ली मे हुई मीट को मैं एक करवट के रूप मे देखता हूँ, एक मीटिंग से कोई निष्कर्ष निकल सकता था ऐसा मानना भी नहीं था। आभासी दुनिया से निकाल कर विचार जब सड़कों पर निकल पड़ें तो ये उस करवट की निशानी है जो सुबह की उजास के साथ जाग मे बदलेगी, उस चिंगारी की निशानी है जो एक दिन आग मे बदलेगी। पिछले लगभग दो सालों से देश मे एक छद्म युद्ध लड़ा जा रहा है.. भ्रष्टाचार जैसे तमाम मुद्दे अप्रासंगिक हो गए हैं। बहस के आयाम बदल गए हैं… दशकों से छुपे हुए तमाम मकोड़े अचानक बिलबिला कर बिलों से बाहर आ गए हैं…एकजुट हो रहे हैं…  दाँव पर दाँव खेल रहे हैं… और ऐसे विरोध के अतिरेक मे जिस डाल पर बैठे हैं वही काटने को उतारू हो रहे हैं। 

अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार रहे हैं….ऐसे मे वो कहीं न कहीं बहुत दिनों से सोए पड़े दूसरे धडे को भी झकझोर रहे हैं… जागने को मजबूर कर रहे हैं… दिल्ली मीट इसका एक उदाहरण है।

दिल्ली मीट बहुत Organized नहीं थी… बहुत व्यवस्थित भी नहीं थी… एजेंडा भी बहुत स्पष्ट नहीं था… कुछ लोग बोले  कुछ लोग चाह कर भी नहीं बोल पाए। मुद्दा JNU और मीडिया जैसे मुद्दों और समस्याओं की खोज के गोल दायरे मे घूमता रहा… वास्तव मे ऐसी मीटिंग्स से बहुत बड़ा परिवर्तन होने वाला है ऐसा भी मैं नहीं मानता.. ऐसे तमाम मिलन, बैठक, मीटिंग्स हम रोज़ करते हैं… मन मे जज़्बा भी है, जुनून भी है और ज़रूरत भी है… लेकिन हर बार एक कसमसाता हुआ सवाल सामने आ खड़ा होता है- आखिर हम करें तो क्या करें ? … लड़ाई के हजारों छोटे बड़े मोर्चे हैं कि शुरुआत कहाँ से करें, कैसे करें और किसके खिलाफ़ करें? लेकिन जब हम आभासी दुनिया से निकल कर आमने सामने मिलते हैं तो उसके मायने बदल जाते हैं… जब हम एक साथ बैठते हैं तो हमारी तमाम सोच तमाम ऊर्जा और शक्ति जो अलग अलग दिशाओं मे बहती है उसको संगठित होने और एक दिशा पाने का अवसर मिलता है… और एक प्रश्न भी मिलता है ” Who am I ” टाइप का… हम अपनी स्थिति कुछ और स्पष्ट रूप से समझ पाते हैं। 
ऐसे मिलन और होने चाहिए… हजारों की संख्या मे होने चाहिए…अपने अपने क्षेत्र मे कम से कम सभी वैचारिक समझ रखने वाले लोग आपस मे एक दूसरे को व्यक्तिगत रूप से जाने। …. समाधान, परिवर्तन, और परिणाम इसके बारे मे तुरन्त आशा करना व्यर्थ है। अन्ना आंदोलन जैसे दूध के उफ़ान बनने से कुछ नहीं होगा… बाबा रामदेव(जिसे मिर्ची लगे वो इससे बड़ा योग, आयुर्वेद और स्वदेशी का काम कर के दिखा दे) जैसे दूरदर्शी और सुव्यवस्थित सोच के साथ बढ़ना होगा… सबकी अपनी अपनी सामर्थ्य है… अपनी अपनी विशेषज्ञता … लेकिन लक्ष्य एक है… बाकी सब गौण हैं… साधन अनेक हैं… साध्य एक है… यही सोच रखेंगे तो सब अच्छा होगा…. अंत मे शुभेक्षा के साथ कुछ बिन्दु आगे  होने वाली मीटिंग्स के लिए छोडना चाहूँगा-
1- आगे के मिलन किसी बन्द स्थान मे रखे जाएँ(मंदिर, सभागृह, स्कूल) 

2- पहले से चर्चा का एक विषय तय हो तो अच्छा होगा

3- चर्चा के मुख्य विषय पर कुछ विशेषज्ञ भी हों। 

3- सभी स्वयं का परिचय कराएँ, सभी एक दूसरे को कम से कम पहचानें 

4- विचार के लिए फेसबुक पहले से है, मीटिग् मे अपने क्षेत्र मे मित्रवत संगठन या ग्रुप्स पर विशेष ज़ोर हो। 

5- यह तय हो कि यदि आवश्यक हुआ तो उस क्षेत्र के फेसबुक वारियर्स अल्प समय मे कब कहाँ और कैसे मिलेंगे। 
…………….. बहुत कुछ है …. दो लाइन लिखने वाले से इतना लिखवा लिया… ज़्यादा ज्ञान(तथाकथित) देने से कोई फायदा नहीं है… लगे रहिए… जूझते रहिए… हार नहीं माननी और … भाई अजीत सिंह की तरह कहूँ तो …(छोड़ो पोस्ट की ऐसी तैसी नहीं करानी) 😛 … 
ज़िन्दाबाद …. फेसबुक वारियर्स ज़िन्दाबाद  !!

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s