भेरी आवाज़ लगाती है

अब जाग उठो अब कमर कसो जीवन की राह बुलाती है

ललकार रही दुनिया हमको भेरी आवाज़ लगाती है

 

भारत माता के वीर सपूतो धारा की पहचान करो
नावों के बंधन को खोलो पतवार उठा प्रस्थान करो
फिर नए लक्ष्य की चाह विजय की राह तुम्हें दिखलाती है

ललकार रही दुनिया हमको भेरी आवाज़ लगाती है

 

तंद्रा छोड़ो आँखें खोलो अब नए लक्ष्य संधान करो
तम की कारा को तोड़ फोड़ जगती का नव उत्थान करो
जब अपनी बाहों मे बल हो तो दुनिया पलक बिछाती है
ललकार रही दुनिया हमको भेरी आवाज़ लगाती है

अब प्रण की बारी आई है अब रण की बारी आई है
तन मन को जो दूषित कर दे वो रात दुधारी आई है
भारत माँ अपने बेटों को सत्पथ की राह बुलाती है
ललकार रही दुनिया हमको भेरी आवाज़ लगाती है

 

9 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. प्रवीण पाण्डेय
    फरवरी 13, 2012 @ 08:40:40

    विश्व में अपना स्थान स्थापित करना होगा..

    प्रतिक्रिया

  2. सलिल वर्मा
    फरवरी 13, 2012 @ 15:21:23

    आज दिनकर की आत्मा इस कविता में उतर आई है… एक आह्वान! एक सामयिक आह्वान!!

    प्रतिक्रिया

  3. अनाम
    फरवरी 14, 2012 @ 12:12:06

    sir ji ek hi baat kahunga..dinkar ji ki wo kavita ki parchai dikhi mujhe..jaise unki kavita padh kar mere roye khade ho jate hai, lahu ka sanchar tej ho jata hai..usi tarah aapki is kavita ko padh kar ek lahu ka tez sanchar hone lga hai…dinkar ji ki josh dilane wali kavita ke baad aapki kavita hi lagi mujhe…sir ji one of the finest poems i have read in my entire life…thanks for creating it🙂

    प्रतिक्रिया

  4. Sanjay Mishra Habib
    फरवरी 14, 2012 @ 15:40:07

    सामायिक/सार्थक/ खुबसूरत रचना…

    प्रतिक्रिया

  5. anju(anu)
    फरवरी 14, 2012 @ 17:46:48

    सच में देशभक्ति में डूबी रचना

    प्रतिक्रिया

  6. दीपिका रानी
    फरवरी 23, 2012 @ 10:54:10

    दिनकर की याद दिला दी आपने। बहुत खूबसूरत लगा।

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: