कबिरा कर जूता गह्यो …

Posted on Updated on

Images

सविनय अर्ज़ है –

रहिमन जूता राखिए, बिन जूता सब सून
बिन जूता होने लगे, भ्रष्टाचारी दून

जूता मारा तान के, लेगई पवन उड़ाय
जूते की इज्ज़त बची, प्रभु जी सदा सहाय

साईं इतना दीजिये, दो जूते ले आँय
मारूँ भ्रष्टाचारियन, जी की जलन मिटाँय

जूता लेके फिर रही, जनता चारिहुं ओर
जित देखा तित पीटिया, भ्रष्टाचारी चोर

कबिरा कर जूता गह्यो, छोड़ कमण्डल आज
मर्ज हुआ नासूर अब, करना पड़े इलाज

रहिमन जूता राखिए, कांखन बगल दबाय
ना जाने किस भेस मे, भ्रष्टाचारी मिल जाय

(अ)निर्मल हास्य ….. पद्म सिंह

Advertisements

10 thoughts on “कबिरा कर जूता गह्यो …

    anju(anu) said:
    जनवरी 24, 2012 को 11:44 पूर्वाह्न

    सही जूता मार के …व्यंग्य है

    अन्तर सोहिल said:
    जनवरी 24, 2012 को 11:46 पूर्वाह्न

    जूता छंद पढकर आनन्द भयो

    प्रणाम

    kaushal mishra said:
    जनवरी 24, 2012 को 12:02 अपराह्न

    kal deepak baba ji ne juto ka haspatal dikhaya thaa …aur aaj aap ki juta chand pad liya ….

    jai baba banaras………..

    Manju Mishra said:
    जनवरी 24, 2012 को 12:41 अपराह्न
    Sanjeev said:
    जनवरी 24, 2012 को 12:57 अपराह्न

    Bahut accha bhrashtrachaar ke khilaaf

    प्रवीण पाण्डेय said:
    जनवरी 24, 2012 को 3:27 अपराह्न

    बड़ा ही उपयोगी संदेश…

    सलिल वर्मा said:
    जनवरी 24, 2012 को 4:11 अपराह्न

    दिल खुश कर दिया पद्म जी! एक हमारी भी,
    जूता चरण ते खोलिए, मारिये जोर लगाय,
    भ्रष्टाचारी नेता को, चहियत इहै सजाय!

    Viral Trivedi said:
    जनवरी 24, 2012 को 4:27 अपराह्न

    अच्छा व्यंग्य काव्य..

    विष्‍णु बैरागी said:
    जनवरी 25, 2012 को 1:43 पूर्वाह्न

    सर्वजन सुखाय, सर्वजन सुखाय।

    PA998877@gmail.com said:
    फ़रवरी 26, 2012 को 11:44 अपराह्न

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s