विश्व विकलांगता दिवस …

P031210_11.25_[01]P031210_10.45_[01]

कल 3 नवंबर को सर्व शिक्षा अभियान के तत्वाधान में समेकित शिक्षा अभियान के अंतर्गत मरियम नगर गाज़ियाबाद के आनंद ट्रेनिंग सेंटर में  विश्व विकलांगता दिवस का भव्य आयोजन किया गया. मानसिक और शारीरिक रूप से अक्षम लोगों के लिए सार्थक प्रयासों के अंतर्गत किये गए इस समारोह में  सुबह नौ बजे से ही असामान्य बच्चों के लिए कार्य कर रही संस्थाओं तथा स्कूलों के बच्चे सेंटर के ग्राउंड में पूरी तन्मयता और अनुशासन के साथ डटे थे….

P031210_11.27_[01]P031210_11.21_[02]

 

 

 

 

 

मुख्य अतिथि की अगवानी के लिए सेंटर के मुख्य द्वार पर अनुशासन से लाइन लगा कर और वाद्य यंत्र थामे बच्चों ने मुख्य अतिथि अपर जिलाधिकारी श्री रामकृष्ण जी तथा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री राजेश कुमार श्रीवास  के आगमन पर तिलक लगाकर और पुष्प गुच्छ प्रदान कर के उनका स्वागत किया…

मुख्य अतिथि द्वारा दीप प्रज्वलन और शान्ति P031210_12.45के प्रतीक कबूतर उड़ाने के साथ कार्यक्रम के विधिवत प्रारम्भ के बाद विभिन्न स्कूलों से आये असामान्य बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये .. उद्घोषक एवं मंच संचालक ने बताया कि आनंद ट्रेनिंग सेंटर गाज़ियाबाद जो मानसिक रूप से अक्षम बच्चों के लिए है के साथ साथ भागीरथ सेवा संस्थान गाज़ियाबाद, , आशा विद्यालय इंग्राहम इन्स्टीट्यूट गाज़ियाबाद जो दृष्टि एवं श्रवण अक्षम बच्चों के लिए कार्य करते हैं, P031210_11.25समग्र मानव कल्याण संस्थान गाज़ियाबाद, आर्थर स्पेशल स्कूल जो मानसिक बच्चों का स्कूल है  तथा साईं स्पेशल स्कूल एवं अन्य स्कूलों से कुल 497 बच्चों ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लिया. गाज़ियाबाद जनपद में 2010-11 के सर्वे के अनुसार कुल 4887 बच्चे असामान्य चिन्हित हुए जिनमे  2902 बालक तथा 1985 बालिकाएं चिन्हित किये गए. जनपद के सभी विकास खण्डों में बच्चों को स्कूलों और स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभिन्न शिविरों के आयोजन द्वारा अक्षम बच्चों के लिए कार्यक्रम चलाए जाते हैं.. जिनमे तत्काल अक्षमता प्रमाणपत्र के साथ साथ कृत्रिम पैरों आदि से बच्चों को लाभान्वित किया जाता है. 

P031210_11.41_[01]P031210_12.25_[01]

उपरोक्त विभिन्न स्कूलों और संस्थानों द्वारा अथक प्रयासों से तैयार विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों ने सभी बच्चों और दर्शकों को धूप और गर्मी में बांधे रखा. बच्चों के उत्साह, अनुशासन और समर्पण ने उनकी मानसिक और शारीरिक अक्षमता को निष्प्रभावी कर दिया. सोलों गीत, समूह नृत्य के साथ साथ फैशन शो ने कार्यक्रम को रोचक बनाए रखा .

 

P031210_10.44_[02]P031210_10.44_[01]

मुख्य अतिथि के विदा होते समय उन्होंने बच्चों द्वारा लगाए गए स्वनिर्मित उपयोगी सामग्रियों के स्टालों का भी अवलोकन किया जहाँ मोमबत्तियों, सॉफ्टटॉयज़ और अन्य उपयोगी सामग्रियों की सुंदरता देखने लायक रही, जहाँ कुछ स्टाल्स पर बच्चों ने अपनी सामग्री बनाने के तरीकों के बारे में मुख्य अतिथि को बताया वहीँ दृष्टि अक्षम बच्चों ने  ब्रेललिपि(दृष्टिअक्षम बच्चों के लिए) को पढ़ और टाइप कर के दिखाया.

P031210_12.15P031210_12.43

विभिन्न स्कूलों से आये बच्चों के लिए विभिन्न बौद्धिक एवं शारीरिक प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया जिसमे चित्रकला, विभिन्न दौड़ें और संगीत प्रतियोगिताएं आयोजित की गयीं. विजेताओं के लिए पारितोषिक आदि का वृहद प्रबंध किया गया था.

जीवन और समाज की मुख्य धारा से संघर्ष करते इस तरह के बच्चों के लिए इन संस्थानों और स्कूलों द्वारा किये जा रहे प्रयास निश्चित रूप से प्रशंसा और उत्साहवर्धन के पात्र हैं. इस समय जहाँ सामान्य जन को जीविका के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है वहाँ मानसिक और शारीरिक रूप से अल्पसक्षम बच्चों को अपनी आजीविका के लिए तैयार करना और बाकी दुनिया के साथ कदम से कदम मिला कर चलना अत्यंत चुनौतीपूर्ण कार्य है. इस कार्य को साकार  करने वाले स्वयंसेवी संस्थानों और स्कूलों का कार्य सराहनीय है.

गाज़ियाबाद के नंदग्राम में मरियम नगर में स्थित आनंद ट्रेनिंग सेंटर मानसिक रूप से पिछड़े बच्चों का प्रशिक्षण एवं पुनर्वास के लिए अग्रणी स्कूलों में गिना जाता है. यहाँ के विशेष रूप से प्रशिक्षित अध्यापिकाओं और डाक्टरों की टीम ने मानसिक रूप से पिछड़े बच्चों के जीवन को सार्थक करने के लिए अहर्निश प्रयासरत है. यहाँ ऐसे बच्चों के लिए हास्टल और बच्चों के लाने ले जाने के लिए गाड़ियों सहित सभी ज़रूरी संसाधन की उपलब्धता और संस्था की प्रतिबद्धता इसे अपने आप में विशेष बनाता है.

 

P221209_11.26P031210_12.16

हमें इस तरह के हर प्रयासों को अपना समर्थन और प्रोत्साहन देना चाहिए ताकि इन बच्चों का आने वाला कल स्वर्णिम हो और भविष्य पशस्त हो….

…….आपका पद्म

०४-नवम्बर २०१० गाज़ियाबाद

6 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. jai kumar jha
    दिसम्बर 04, 2010 @ 10:54:59

    सार्थक और सराहनीय प्रस्तुती……..शानदार ब्लोगिंग क्योकि ऐसे मुद्दों को कम ही लोग ब्लॉग पर लिखतें है……

    प्रतिक्रिया

  2. aradhana
    दिसम्बर 04, 2010 @ 12:09:23

    निश्चय ही इन संस्थाओं का प्रयास सराहनीय है. आपका आभार इनसे परिचित करवाने के लिए और ऐसे मुद्दे को ब्लॉग पर रखने के लिए.

    प्रतिक्रिया

  3. विजय तिवारी 'किसलय '
    दिसम्बर 04, 2010 @ 12:11:11

    विस्तृत विवरण एवं चित्रों के कारण पोस्ट अच्छी बन पड़ी है.
    सकारात्मक कदम है आपका.

    सकारात्मक एवं आदर्श ब्लागिंग की दिशा में अग्रसर होना ब्लागर्स का दायित्त्व है : जबलपुर ब्लागिंग कार्यशाला पर विशेष.

    -विजय तिवारी ‘किसलय ‘

    प्रतिक्रिया

  4. प्रवीण पाण्डेय
    दिसम्बर 04, 2010 @ 22:45:11

    बच्चों में मेरी शुभकामनायें।

    प्रतिक्रिया

  5. ललित शर्मा
    दिसम्बर 06, 2010 @ 12:39:12

    ईश्वर ने इन फ़ूल से सुंदर बच्चों को भी बनाया है।
    इन्हे दुनिया की सारी खुशियाँ मिलनी चाहिए।
    कहीं कमी न रहे।

    प्रतिक्रिया

  6. प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI
    दिसम्बर 07, 2010 @ 19:54:12

    बढ़िया और सार्थक रिपोर्टिंग !
    जारी रहें !

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: