महत्वाकांक्षाओं के फावड़े…कुत्ते की हड्डी और… मुल्ला नसीर का जूता

54

“कहाँ से शुरू करूँ”….मुझे अक्सर यह प्रश्न सताता है …. इसी सोच में शुरू  करना और भी मुश्किल होता जाता है … धीरे धीरे  बहुत सारे दिन और विचार इसी उधेड़बुन में निकल जाते हैं … कहाँ से शुरू  करूँ … ये बहाना भी हो सकता है… दरअसल प्रश्न ये होता होगा कि  क्या शुरू करूँ … कुछ भी लिख देना दुनिया की नज़र में आकर्षक हो सकता, अगर मेरे पास  एक सेलेब्रिटानी वर्तमान होता, विरासत में मिला कोई स्तरीय(ऊच्च या निम्न) अतीत होता, स्वप्निल और स्वर्णिम भविष्य के सपने होते या फिर कम से कम एक बौराया पगलाया प्रेम ही होता … सोचना, सोच को लिखना और सोच को अभिव्यक्त करना और अंततः  क्रियान्वित करना …  क्रमशः दुरूहतर होते हैं …शायद इसीलिए हर शुरुआत में ये प्रश्न बार बार खड़ा हो जाता है कि “कहाँ से शुरु करूँ”

giving-you-the-best-darwin-leonकई बार ‘लक्ष्य’ , ‘उपलब्धि’, और ‘महत्वाकांक्षा’ जैसे शब्द खोखले लगने लगते हैं… क्योकि हर उपलब्धि अपने पीछे एक निराश सूनापन छोड़ जाती है… हर लक्ष्य की प्राप्ति पर नया लक्ष्य खड़ा मुंह चिढ़ाता दीखता है…और पीछे  एक और अतृप्त तृष्णा शेष रह जाती है… हर उपलब्धि महत्वाकांक्षा के नए प्रतिमान गढ़ लेती है… और इसी चक्रव्यूह में सारी शक्तियाँ (मानसिक शारीरिक) खप जाती है…  पूरी उम्र लक्ष्यों की खोज में  वास्तविक प्राथमिकताएं तो उपलब्धियों के पीछे यूँ दबी रह जाती है जैसे रेशमी कुर्ते के ठीक नीचे फटी बनियान… हम छोटी छोटी उपलब्धियों को ही अपना लक्ष्य मान लेते हैं और ढेर सारी प्राथमिकताएं  में भ्रूण अवस्था में ही दम तोड़ देती हैं… महत्वाकांक्षा की अंधी दौड़ में हम अपने प्रिय, अपने सम्बन्धियों सहित स्वयं के साथ भी अनजाने ही यंत्रवत हो कर रह जाते हैं….आत्मीयता की सरिता जैसे सूख जाती है… हर रिश्ता औपचारिक और हर  कृत्य दिखावा मात्र रह जाता है. 

एक लघुकथा याद आती है… मुल्ला नसीरुद्दीन के पास एक जूता था … जूता इतना तंग कि पहनना भी मुश्किल… इस वजह से काटता भी बहुत था … लेकिन मुल्ला को जूते से बहुत प्रेम था … किसी मित्र ने पूछा यार मुल्ला नसीरुद्दीन.. तुम नया जूता क्यों नहीं ले लेते…. मुल्ला का जवाब था … यार जीवन में सारे सपने रीते पड़ गए… सारी महत्वाकांक्षाएँ अतृप्त रह गयीं …ऐसे में मेरे सुख का एकमात्र सहारा ये जूता ही है… पूरे दिन पैर में काटता है…पूरे दिन इसकी टीस मुझे परेशान करती है ..लेकिन शाम को जब मै इसे उतारता हूँ तो बेहद सुकून मिलता है … मेरे जीवन में एकमात्र यही सुख का साधन है … इसी लिए इस जूते को मै नही बदलता… मिथ्या सुख के बड़े बड़े लक्ष्यों के पीछे अपने आत्मिक सौंदर्य को निहारना जैसे भूल ही जाते हैं… इसे ऐसे भी समझें कि “सुख, आनंद का शार्टकट बाईपास है" … आश्चर्य तो यह कि अधिकतर हमें अपनी वास्तविक प्राथमिकताओं का भान भी नहीं होता…  जैसे कुत्ता सूखी हड्डी को चबाता है और अपने ही मसूड़े के खून से तृप्त होने का भ्रम पालता है, ऐसे ही मनुष्य महत्वाकांक्षाओं के फावड़े से अपनी आत्मा की कब्र खोदता रहता है और अंत में जब तक वस्तुस्थिति का भान होता है… कोई अवसर शेष नहीं होता…  ये बात तो अंत में पता चलती है कि “जीवन में रीसेट का बटन नहीं होता"

“दुनिया जीतने की चाह में मनुष्य अपने आप को हार जाता है"

अंत में कबीरदास का एक निर्गुण जो शायद सारे भ्रम तोड़ कर वास्तविकता के धरातल पर ला पटकता है….

भंवरवा के तोहरा संग जाई,
आवे के बेरियां सभे केहू जाने,
दु्अरा पे बाजे बधाई,
जाइ की बेरियां, केहू ना जाने,
हंस अकेले उड़ जाई….
भंवरवा के तोहरा संग जाई,

देहरी पकड़ के मेहरी रोए,
बांह पकड़ के भाई,
बीच अंगनवां माई रोए,
बबुआ के होवे बिदाई,
भंवरवा के तोहरा संग जाई,

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
सतगुरु सरन में जाई,
जो यह पढ़ के अरथ बैठइहें,
जगत पार होई जाई,
भंवरवा के तोहरा संग जाई।

 

……….. आपका पद्म सिंह

(चित्र-गूगल से साभार)

8 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. satish saxena
    दिसम्बर 02, 2010 @ 07:03:54

    सोचने के लिए मजबूर करता बहुत सुंदर लेख , सुबह सुबह कबीर को पढ़ा आज का दिन अच्छा बीतेगा ! शुभकामनायें पद्मसिंह !

    प्रतिक्रिया

  2. ASHOK BAJAJ
    दिसम्बर 02, 2010 @ 07:40:34

    कहत कबीर सुनो भाई साधो,
    सतगुरु सरन में जाई,
    जो यह पढ़ के अरथ बैठइहें,
    जगत पार होई जाई,

    बेहतरीन प्रस्तुति ,बधाई !

    प्रतिक्रिया

  3. प्रवीण पाण्डेय
    दिसम्बर 02, 2010 @ 08:56:34

    किसी का न काटना यदि सुख दे, तो उसे काटने ही क्यों दिया जाये। सुन्दर आलेख।

    प्रतिक्रिया

  4. naresh singh
    दिसम्बर 02, 2010 @ 10:11:16

    बहुत सुंदर विचारों का बहाव है | महत्वकांक्षाओ का कोइ अंत नहीं है संतुष्टी के द्वारा ही इस पर कही न कही रोक लगानी पड़ती है |

    प्रतिक्रिया

  5. nirmla.kapila
    दिसम्बर 02, 2010 @ 12:19:07

    इस रचना को 4 बार पढ। गहरे चिन्तन से उपजी बहुत सी पँक्तियाँ बहुत कुछ कह गयी।

    मनुष्य महत्वाकांक्षाओं के फावड़े से अपनी आत्मा की कब्र खोदता रहता है और अंत में जब तक वस्तुस्थिति का भान होता है… कोई अवसर शेष नहीं होता… ये बात तो अंत में पता चलती है कि “जीवन में रीसेट का बटन नहीं होता”
    कितना बडा जीवन दर्शन है यहाँ। बहुत बहुत धन्यवाद और बधाई इस पोस्ट के लिये।

    प्रतिक्रिया

  6. शाहिद मिर्ज़ा शाहिद
    दिसम्बर 02, 2010 @ 21:25:28

    बहुत कुछ सोचने पर विवश कर दिया आपकी पोस्ट ने.

    प्रतिक्रिया

  7. kanak
    दिसम्बर 04, 2010 @ 16:03:23

    you write so true of life .

    प्रतिक्रिया

  8. प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI
    दिसम्बर 07, 2010 @ 20:01:13

    सोचने की आदत भी कई बार उलझन भी पैदा कर सकती है !
    मस्त रहें !

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: