रोना हज़ार रोते हैं (व्यंहज़ल)

 

लिखते लिखते सोच रहा था ये क्या लिख रहा हूँ मै ? गज़ल का शिल्प, हास्य का रस, और व्यंग्य की तासीर का मिलाजुला स्वरुप देख कर मन मे आया कि इसे क्या कहूँ .. और फिर शायद एक नयी विधा या शब्द का जन्म हुआ  ऐसा लगता है….

व्यंग्य+हास्य+गज़ल=(व्यंहज़ल)

तो व्यंहज़ल अर्ज़ है……..हल्के फुल्के मन से मुस्कुराते हुए स्वीकारिये …

अंतिम शेर संजीदा एहसासों की शिद्दत से अभिव्यक्ति है…

रोना    हज़ार   रोते  रहे देश काल के

फेंके  न आस्तीं के संपोले निकाल के

 

चारों तरफ़ बिछी है सियासत की गंदगी

यारों कदम बढ़ाना  जरा  देख भाल  के

 

भेजा वही है,   सोच वही,   आदतें वही

बदले हैं कलर लल्ला ने सिर्फ बाल के

 

मिलते ही सुकन्या ने हाइ गाइ! यूँ कहा

आसार  नज़र आने लगे चाल ढाल के

 

लहसुन  पेयाज़ मसाले  का  त्याग देखिये

साहब ने मछली खाई तो वो भी उबाल के

 

कुछ भी न दिया हो विकास ने यहाँ मगर

झुरऊ  मज़े लेते  हैं  सरे-शाम   मॉल   के 

 

इस दौर फर्ज-ओ-फन की  खैर बात क्या करें

ईमान  खरीदे गए सिक्के  उछाल   के

 

 

……… आपका पद्म २२-०८-२०१०

13 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. प्रवीण पाण्डेय
    अगस्त 22, 2010 @ 08:35:16

    इसमें कोई धोने जैसी ध्वनि को जोड़ लें। धुलाई के लिये बिल्कुस सही छन्द है यह।

    प्रतिक्रिया

  2. प्रवीण पाण्डेय
    अगस्त 22, 2010 @ 08:35:57

    *बिल्कुल

    प्रतिक्रिया

  3. राजीव भरोल
    अगस्त 22, 2010 @ 08:45:02

    पद्म जी,
    बहुत ही बढ़िया ग़ज़ल. सभी शेर पसंद आये.

    “भेजा वही..” और “मछली उबाल के” वाले शेर खास तौर पर अच्छे लगे.

    प्रतिक्रिया

  4. Shiv
    अगस्त 22, 2010 @ 12:18:52

    बहुत बढ़िया. व्यंहज़ल अद्भुत है.

    प्रतिक्रिया

  5. महेश सिन्हा
    अगस्त 22, 2010 @ 14:46:48

    इस दौर फर्ज-ओ-फन की खैर बात क्या करें

    ईमान खरीदे गए सिक्के उछाल के

    प्रतिक्रिया

  6. Pramod Tambat
    अगस्त 22, 2010 @ 16:02:00

    बहुत जोरदार। बधाई।

    प्रमोद ताम्बट
    भोपाल
    http://www.vyangya.blog.co.in
    http://vyangyalok.blogspot.com

    प्रतिक्रिया

  7. रवि कुमार, रावतभाटा
    अगस्त 22, 2010 @ 20:28:05

    भेजा वही है, सोच वही, आदतें वही
    बदले हैं कलर लल्ला ने सिर्फ बाल के

    इस दौर फर्ज-ओ-फन की खैर बात क्या करें
    ईमान खरीदे गए सिक्के उछाल के

    क्या खूब नज़रिया समेटे हैं….

    प्रतिक्रिया

  8. mithilesh
    अगस्त 22, 2010 @ 22:18:44

    मै ब्लोगर महाराज बोल रहा हूँ

    मुझे पता चला है कि मिथिलेश भाई को महफूज भाई के खिलाफ भड़काने वाला कोई और नहीं वहीं नारी विरोधी अरविंद मिश्रा है । मुझे पता चला है कि अरविंद मिश्रा ने महफू भाई और अदा दीदी के खिलाफ ,मिथिलेश के कान भरे हैं । मिथिलेश एक अच्छा लेखक है, इस उम्र में जैसा वह लिखता है हर कोई नहीं लिख सकता , वह ऊर्जावान लेखक है जिसका अरविंद मिश्रा गलत उपयोग कर रहा हैं, आईये इस ढोंगी ब्लोगर का वहिष्कार करें , फिर मिलेंगे चलते-चलते । अभी ये मेरी पहली पोस्ट है, आगे और भी खुलासे होंगे । तब तक के लिए नमस्कार ।

    प्रतिक्रिया

  9. sanjay
    अगस्त 22, 2010 @ 22:34:08

    गज़ब की पोस्ट लगी साहब।
    और ब्लॉग का स्वरूप भी आपकी क्रियटिविटी दर्शा रहा है। लगता है अपना काफ़ी समय इस ब्लॉग पर खर्च होने वाला है। हा हा हा।

    आभार स्वीकार करें।

    प्रतिक्रिया

  10. neeshoo
    अगस्त 22, 2010 @ 22:46:14

    bahut badhiya

    प्रतिक्रिया

  11. indu puri
    अगस्त 24, 2010 @ 01:51:19

    व्यहंजल ??
    हा हा हा क्या खूब नया शब्द ढूँढा है व्यहंज़ल .भाषा का विकास इसी तरह नए शब्दों की उत्पत्ति से होता है. पीकोक,पीहेन …फिर पीचिक या पीचिक्स नाम सुना?
    नही पर मैंने कहा क्यों नही हो सकता.अच्छे इंग्लिश के विद्वान सोच में पड गए….
    हा हा हा
    ऐसिच हूं मैं भी.
    कवि-सम्मलेन में जैसे हमे भी शामिल कर लिया,सजीव चित्रण इसे ही कहते हैं.बाबा किसका आखिर?????
    इस दौर फर्ज-ओ-फन की खैर बात क्या करें
    ईमान खरीदे गए सिक्के उछाल के ‘
    एकदम सच सच वो भी खरा खरा.
    यूँ कहूँ तो बुश का जूता ????(ही ही जूता बुश का थोड़े ही था) वो आप भी मारना सीख गए हैं वो भी उल्टा जूता. तडाक…..व्यहंजल …और भी लिखना. त्रिवेणी ले आये आप…..??? तुम तो बाबु!

    प्रतिक्रिया

  12. रानीविशाल
    अगस्त 25, 2010 @ 03:41:03

    बहुत ही उम्दा ग़ज़ल ….सारे शेर पसंद आए !
    मेरे भैया …..रानीविशाल
    रक्षाबंधन की ढेरों शुभकामनाए !!

    प्रतिक्रिया

  13. shikha varshney
    अगस्त 25, 2010 @ 19:26:46

    बहुत बढ़िया.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: