अजब गज़ब का सोफ्टवेयर (तकनीकी पोस्ट)

 

computer-animated लीक से फिर हटते हुए आज इंटरनेट की एक  तकनीक “रिमोट सपोर्ट" से सम्बंधित एक अच्छे सोफ्टवेयर  पर बात करना चाहता हूँ… अगर कभी  हजार किलोमीटर दूर से  आपके किसी मित्र का फोन आये कि यार मेरी तबियत ठीक नहीं है मै बोलता हूँ तुम मेरी एक पोस्ट टाइप कर दो जरा, या ..मै सोने जा रहा हूँ .. मेरी रचना पढ़ कर कम्प्युटर बंद कर देना, या … जरा मुझे सिखाना कि नया ब्लॉग कैसे बनाते हैं और कैसे सजाते हैं इसे.. तो कोई कह सकता है कैसे संभव है ये सब… हज़ार किलोमीटर से कैसे संभव है ?.. लेकिन ये सब संभव किया है एक सोफ्ट वेयर ने जिसके बारे में आपको भी बताना चाहता हूँ ..

img3 मेरे आफिस और मेरे जानने वाले मित्र और रिश्तेदार मुझे कम्प्युटर  का जानकार मानते हैं …कई तो मुझे गलत फहमी में कम्प्युटर  इंजीनियर मानते है,🙂 …   कम्प्युटर ही  नहीं किसी भी तरह की तकनीकी जानकारी जैसे मोबाइल,कार, या बिद्युत उपकरण आदि खरीदने से पहले मेरी सलाह लेना बेहतर समझते हैं… जबकि सत्य यह है कि मेरे पास किसी तरह की तकनीकी डिग्री नहीं है…सिर्फ पन्द्रह दिन कम्प्युटर सीखने गया हूँ कभी ग्यारह साल पहले …. प्रैक्टिकल करने का नम्बर आता इससे पहले ही छोड़ दिया… लेकिन मुझे किसी भी तकनीक के बारे में जानने की उत्सुकता ने मुझे बहुत कुछ सीखने में मदद की …और जो कुछ जानता हूँ किसी को हेल्प करने को हमेशा तत्पर रहता हूँ…

कई मित्र पहले मुझसे किसी कम्प्युटर की समस्या के सम्बन्ध में फोन पर पूछते तो फोन पर किसी प्रक्रिया को बताने में बहुत परेशानी होती थी …. और मुझे यह भी पता नहीं चलता कि उधर बैठा मित्र वास्तव में कैसे मेरी बात समझ रहा है ….इसी बीच मुझे एक सोफ्टवेयर मिला जिसने मेरी इस तरह की तमाम परेशानियों का हल दिया .. आज आपको इसी सोफ्टवेयर के बारे में बताना चाहता हूँ …’

teamviewer

ये सोफ्टवेयर है “टीम व्यूअर” … टीम व्यूअर अपने आप में दूर बैठ कर कम्प्युटर सपोर्ट और अभिव्यक्ति का बहुत अच्छा और उपयोगी सोफ्टवेयर है … इस सोफ्टवेयर की खास बात है कि इसके माध्यम से आप लाखों किलोमीटर दूर भी बैठ कर किसी के कम्प्युटर पर हो रही हर हलचल को तत्काल देख सकते हैं…जैसे आप उसी कम्प्युटर पर बैठे हों … कुछ बिंदु इस सोफ्टवेयर के बारे में और –

  1. दुनिया के किसी कोने में बैठ कर आप किसी मित्र के कम्प्युटर पर चल रही गतिविधि को अपने स्क्रीन पर  लाइव देख सकते हैं,
  2. दूर अपने किसी मित्र को अपने कम्प्युटर पर हो रही हर हलचल को तत्काल(लाइव) दिखा सकते हैं. इसमें लाइव प्रेजेंटेशन या फोटो फिल्म कुछ भी हो सकता है …  
  3. दूर बैठ कर किसी मित्र के कम्प्युटर को आप ऐसे ही आपरेट कर सकते हैं जैसे आप अपना कम्प्युटर यूज कर रहे हों. दूर बैठ कर अपने मित्र के कम्प्युटर को निर्देश दे सकते हैं और हर तरह की सपोर्ट दे सकते हैं.
  4. इसके माध्यम से किसी मित्र या पार्टनर से लाइव वोइस चैट अथवा वीडियो चैट कर सकते हैं
  5. अपने कम्प्युटर का नियंत्रण किसी मित्र को दे सकते हैं, अथवा किसी मित्र कम्प्युटर का नियंत्रण अपने हाथों में ले सकते हैं.
  6. अपने कम्प्युटर से मित्र के अथवा मित्र के कम्प्युटर से अपने कम्प्युटर पर किसी फ़ाइल को ट्रांसफर कर सकते हैं … इतनी आसानी से जैसे आप अपने कम्प्युटर पर एक जगह से दूसरी जगह फ़ाइल ट्रांसफर करते हैं
  7. वेबकैम और हेडफोन आदि के साथ आप साथ साथ  बैठ कर एक ही कम्प्युटर पर किसी कार्य को करने जैसा सुखद एहसास पा सकते हैं.
  8. दुनिया के किसी कोने में बैठ कर आप पहले से निश्चित परमानेंट पासवर्ड के द्वारा अपना कम्प्युटर ऐसे आपरेट कर सकते हैं जैसे सामने ही बैठे हों.

वैसे तो ये सोफ्टवेयर कामर्शियल यूज़ के लिए है और तय मूल्य दे कर क्रय किया जाता है. किन्तु व्यक्तिगत प्रयोग के लिए सोफ्टवेयर एकदम मुफ़्त है जिसे यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं…

Capture डाउनलोड करने पर जब इसे चलाएंगे तो आपको नीली स्क्रीन दिखेगी जिसपर आपका आईडी और पासवर्ड दिखेगा आईडी आपकी परमानेंट होगी लेकिन पासवर्ड हर बार बदल जाता है (यदि आप चाहें तो सेटिंग में अपना पासवर्ड भी एक ही सेट कर सकते हैं). किसी मित्र जिसके कम्प्युटर पर भी टीम व्यूअर चल रहा हो इस आईडी और पासवर्ड के जरिये लगभग हर तरह से सूचनाओं का आदान प्रदान कर सकते हैं अथवा अपने या उसके कम्प्युटर का नियंत्रण एक दुसरे को दे सकते हैं …
 
टीम व्यूअर डॉट कोम् पर साइनअप कर के आप अपने मित्रों और पार्टनर्स की लिस्ट भी  बना सकते हैं जिसमे उनका आईडी आदि सुरक्षित रख सकते हैं …और जब चाहें आमने सामने मिलिए अपने मित्रों से,…
 
किसी भी तरह की यथासंभव सहायता के लिए तत्पर …
शुभकामनाओं सहित आपका पद्म सिंह
ppsingh8@gmail.com 
टीम व्यूअर आईडी- 148 946 444
 

(यद्यपि बहुत से मित्र इसके बारे में जानते होंगे लेकिन ये उनके लिए है जो इसके बारे में नहीं जानते… नए ब्लोगर्स अथवा कम्प्युटर इस्तेमाल करने वालों को सपोर्ट करने के लिए सोफ्टवेयर उपयोगी हो सकता है.)

21 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. समीर लाल
    अगस्त 09, 2010 @ 08:47:28

    बेहतरीन जानकारी का आभार.

    प्रतिक्रिया

  2. रघु
    अगस्त 09, 2010 @ 08:49:42

    ये बहुत ही अच्छी जानकारी दी है आपने इधर .
    मैं तो TeamViewer को पिछले एक साल से इस्तेमाल कर रहा हूँ . जब भी मेरे कंप्यूटर या लेपटाप में कुछ दिक्कत आती है तो मैं इधर जर्मनी में हूँ और उधर इंडिया से मेरा भतीजा TeamViewer के माध्यम से ही मेरी सारी प्रोब्लम कंप्यूटर की ठीक कर देता है .

    वाह रे वाह नेट की दुनिया …
    और पद्म जी आपने ये जानकारी इधर देकर बहुतों का काम आसान कर दिया है .

    रघु

    प्रतिक्रिया

  3. Ratan Singh Shekhawat
    अगस्त 09, 2010 @ 08:58:03

    बढ़िया सोफ्टवेयर है ये !
    हम भी अक्सर इसका इस्तेमाल करते रहते है एक बार तो इसी के माध्यम से हमने रायपुर के ब्लोगर ललित जी का कंप्यूटर भी चलाया था

    प्रतिक्रिया

  4. ललित शर्मा
    अगस्त 09, 2010 @ 09:03:37

    आभार.

    प्रतिक्रिया

  5. satish saxena
    अगस्त 09, 2010 @ 10:11:36

    बढ़िया जानकारी के लिए शुक्रिया आपका !

    प्रतिक्रिया

  6. अन्तर सोहिल
    अगस्त 09, 2010 @ 12:07:33

    बहुत बढिया और विस्तृत जानकारी दी जी, आभार
    पहले भी सुना था इसके बारे में, इंस्टाल भी है लेकिन प्रयोग नहीं किया।

    प्रणाम स्वीकार करें

    प्रतिक्रिया

  7. parigya
    अगस्त 09, 2010 @ 12:12:31

    पद्म जी आपने अच्छी जानकारी दी है.आगे से मैं भी आवश्यकता पड़ने पर इस सॉफ्टवेर का इस्तेमाल कर सकता हूँ.
    बहुत बहुत धन्यवाद्.

    प्रतिक्रिया

  8. jai kumar jha
    अगस्त 09, 2010 @ 19:11:33

    सार्थक और बेहद उपयोगी जानकारी देती पोस्ट ,इसके नुकसान भी है क्या .? जैसे इस सोफ्टवेयर के इंस्टाल रहने पर कोई हमारी महत्वपूर्ण जानकारी आसानी से चुरा सकता हो ,या हमारे कंप्यूटर को बेवजह परेशान कर सकता हो ,क्योकि आजकल सदुपयोग कम दुरूपयोग करने वाले ज्यादा हैं .. हो सके तो इस विषय पर उपलब्ध जानकारी भी अगली पोस्ट में देने का प्रयास करें…

    प्रतिक्रिया

    • padmsingh
      अगस्त 09, 2010 @ 20:50:35

      नहीं महोदय … इसके जरिये आपके कम्प्युटर तक कोई तभी पहुँच सकता है जब आप इसका पासवर्ड किसी को बताएं … हर बार चलाने पर पासवर्ड बदल जाता है इस लिए बिना आपके बताए किसी के द्वारा एक्सेस करना संभव नहीं है … एक आप्शन ये भी है कि आप अपना परमानेंट पासवर्ड भी बना सकते हैं जिसे अपने खास मित्रों को या स्वयं के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं … ऐसी स्थिति में दोनों यूजर डिफाइंड अथवा टीम व्यूअर के द्वारा दिए गए पासवर्ड दोनों का प्रयोग कर सकते हैं …

      प्रतिक्रिया

  9. sciencedarshan
    अगस्त 09, 2010 @ 19:48:29

    सार्थक और बेहद उपयोगी जानकारी देती पोस्टधन्यवाद जी

    प्रतिक्रिया

  10. mithilesh
    अगस्त 09, 2010 @ 20:34:35

    बेहतरीन जानकारी का आभार.

    प्रतिक्रिया

  11. प्रवीण पाण्डेय
    अगस्त 09, 2010 @ 20:36:26

    बड़ी सुन्दर जानकारी दी।

    प्रतिक्रिया

  12. राजीव नन्दन द्विवेदी
    अगस्त 14, 2010 @ 23:38:44

    😛

    प्रतिक्रिया

  13. projekty domów lublin
    फरवरी 27, 2011 @ 02:01:57

    Some really nice and utilitarian info on this website , as well I conceive the design and style holds excellent features.

    प्रतिक्रिया

  14. neeraj
    नवम्बर 15, 2011 @ 20:36:06

    hai

    प्रतिक्रिया

  15. harshmaan
    नवम्बर 19, 2011 @ 12:36:55

    thank for informetion

    प्रतिक्रिया

  16. krishna gopal shrestha
    दिसम्बर 23, 2011 @ 16:17:21

    Thanks a lot.

    प्रतिक्रिया

  17. Kajal Kumar
    फरवरी 07, 2013 @ 22:08:25

    इसके बारे में सुनता तो आया हूं पर कभी ज़रूरत नहीं पड़ी. फिर भी सोचता हूं कि एक आध बार इसे भी चला कर यूं ही देख लिया जाए.

    प्रतिक्रिया

  18. Sachendra Kumhar Prajaapati
    अक्टूबर 14, 2013 @ 19:24:48

    maza aayega

    प्रतिक्रिया

  19. Harishankar
    जुलाई 26, 2014 @ 12:56:13

    – (1) वह मनुष्य, जिसने सारा जीवन पाप व अधर्म में बिताया हो, काम, क्रोध में अपने यौवन को नष्ट किया हो। (2) अदि अन्त में उसको पश्चाताप हो और भलाई की ओर लौटना चाहे, तो क्या उसका कल्याण हो सकता है ? (3) एक बार भी सच्चे हृदय से वह महादेव जी की पूजा करे, तो धर्म-मार्ग में उच्च से उच्च पद को पा सकता है। (4) हे प्रभु ! मेरा समस्त जीवन लेकर केवल एक दिन भारत (हिंद) के निवास का दे दो, क्योंकि वहाँ पहुँचकर मनुष्य जीवन-मुक्त हो जाता है।

    प्रतिक्रिया

  20. Harishankar
    जुलाई 26, 2014 @ 12:58:40

    लाँक वेबसाट को कैसे अनलाँक करेँ Harishankar8811@gmail.com

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: