आज़ाद पुलिस (संघर्ष गाथा-२)

Posted on Updated on

गतांक से आगे —

निर्दोष ब्रह्मपाल लखनऊ की आठ महीने पन्द्रह दिन की जेल काट कर आया तो उसका मन प्रशासन और पुलिस के भ्रष्टाचार के प्रति विरक्ति से भर गया था… जेल मे रह कर उसने जो कुछ भी देखा सुना उसने उसे पुलिस के प्रति मानसिक रूप से विद्रोही बना दिया… लेकिन एक गरीब कर भी क्या सकता था … बूढ़ी माँ की जिद पर उसने ब्रह्मवती से विवाह कर लिया. और आजीविका के लिए मजदूरी करने लगा… मजदूरी कर के कुछ पैसे जुटाए और अपने लिए एक रिक्शा ले लिया और परिवार सहित हापुड कोतवाली मे डेरा डाल दिया … वहाँ भी इसने अपने साथ हुए अत्याचार के लिए न्याय मांगने के लिए जद्दोज़हद करता रहा… लेकिन उसे कभी दुत्कार तो कभी पुलिस हवालात तो कभी लात घूंसे भी खाने पड़े …  न्याय पाने के लिए उसने जिलाधिकारी,पुलिस अधीक्षक से लेकर मुख्यमंत्री और राज्यपाल तक के सामने अपनी बात रखी लेकिन न् तो मामले की जाँच हुई और न् ही कोई कार्यवाही हुई… दूसरी क्लास तक पढाई करने के बावजूद ब्रह्मपाल मे लेखन की प्रतिभा और समाज के प्रति समर्पण की भावना कूट कूट कर भरी होने के कारण उसने पुलिस की कार्य प्रणाली के सम्बन्ध मे अधिकारियों को हजारों पत्र लिखे…लेकिन कोई हल नहीं निकला … आज वो अपने साथ हुए अन्याय की उम्मीद छोड़ चुका है… आज उसकी एक ही मांग है कि प्रशासन को लिखे गए उसके सारे पत्र वापस कर दिए जाएँ …

लचर पुलिस व्यवस्था के विरूद्ध  संघर्ष –

अपने साथ हुए अत्याचार का कोई न्याय मिलते न देख ब्रह्मपाल ने पुलिस  प्रशासन के प्रति विरोध का अनूठा तरीका अपना लिया … रिक्शा ही उसकी आजीविका का एक मात्र साधन था… उसने एक दिन खुद ही पुलिस की वर्दी पहन ली … और रिक्शे पर आज़ाद पुलिस के बोर्ड लगा लिए… अपने आपको आज़ाद पुलिस के रूप मे इस लिए बदल लिया कि इस पुलिस के पास नेताओं या अधिकारियों का कोई दबाव नहीं है ..आज़ाद पुलिस भ्रष्टाचार के प्रति बिना किसी लाग लपेट के लड़ाई जारी रखेगी … उसने रिक्शा चलाते हुए भी पुलिस का वेश धारण कर लिया और अपने कमाए पैसों से चालान बुक छपवा ली …

अब उसका मिशन है कि रिक्शा चलाते हुए जहाँ भी पुलिस के लोगों को अपनी ड्यूटी से दूर खड़े होते, नशे मे ड्यूटी करते, रिश्वत लेते,या बिना टोपी डंडे के ड्यूटी देते देखता है तुरंत रुक कर पुलिस वाले का चालान काट देता है … और चालान पर नाम सहित कमियों के उल्लेख करने के साथ साथ उस पुलिस वाले से चालान पर हस्ताक्षर भी ले लेता है … हस्ताक्षर न देने पर बवाल खड़ा कर देता है…

जिससे फजीहत के डर से पुलिस वाला हस्ताक्षर कर अपना पिंड छुड़ाता है … और ये चालान एक दो दिन मे एस एस पी आफिस मे बाकायदा कार्यवाही की प्रार्थना के साथ जमा करवा दिया जाता है … ऐसे मे भले पुलिस वाले पर कोई गंभीर कार्यवाही भले न हो लेकिन उसकी फजीहत होना तय  है …  और इसी लिए पुलिस वाले भी उसको देखते ही “राईट-टाइट” हो जाते हैं … जिस पुलिस वाले ने हेलमेट न पहना हो, जिसकी गाड़ी के प्रपत्र पूरे न होँ, या  तिहरी सवारी कर रहे होँ उनका चालान कटना तय है …

———————————

उसका मिशन है कि जिस भ्रष्टाचार और अत्याचार का वो शिकार हुआ है…उसका शिकार कोई और गरीब न हो  इसके लिए उसका यथा-शक्ति संघर्ष लगातार चलता रहता है …

——————————–

जहाँ भी उसे लगता है कि व्यवस्था मे कुछ गलत हो रहा है उसके बारे मे प्रशासन को सचेत करने के लिए चिट्ठियाँ लिखना … सरकार की नीतियों के खिलाफ विकास के झूठे साइन बोर्डों पर कालिख पोतना, और अपने तरीके से विरोध दर्ज करवाना उसका रोज़ का काम है … इस सब के कारण अक्सर हवालात की हवा खाता रहता है …. कई बार तो बुरी तरह पीटा भी जाता है…इसी क्रम मे कुछ दिन पहले गाज़ियाबाद कलेक्ट्रेट मे मुख्यमंत्री के विकास सम्बन्धी दावों वाले पोस्टरों पर कालिख पोतने के जुर्म मे कविनगर पुलिस द्वारा अपराध संख्या 371/2010 के अंतर्गत जेल मे निरुद्ध किया गया और उसका रिक्शा भी थाने मे बंद कर दिया गया था जहाँ से अभी कुछ दिन पहले छूट कर आया है….

काफी मशक्कत के बाद रिक्शा भी छूट गया है… और पूर्व की भांति उसका संघर्ष अनवरत चल रहा है … यहाँ यह उल्लेखनीय है कि ब्रह्मपाल मे न्याय न् मिलने से निराशा अवश्य है लेकिन उसका जूनून आज भी वही है … फर्क सिर्फ इतना है कि पहले उसकी लड़ाई अपने लिए थी और आज वो गरीब जनता के लिए संघर्ष कर रहा है ….

तिरंगा का अपमान –

पिछले काफी समय से “तिरंगा” ब्राण्ड के एक गुटखा कंपनी के विरुद्ध संघर्ष कर रहा है… इसके अनुसार किसी ऐसी चीज़ का नाम तिरंगा होना… या इस पर तिरंगा छापना राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे का अपमान है… इस सम्बन्ध मे नगर मजिस्ट्रेट गाज़ियाबाद द्वारा उसके प्रार्थना पत्र के आधार पर पुलिस अधीक्षक गाज़ियाबाद को उक्त के सन्दर्भ मे गुटखा कंपनी के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए हैं (कैम्प/एस टी -सी एम/०९ दिनांक २९-०९-२००९) लेकिन न् तो अभी इसकी जाँच पूरी हुई है और न् ही गुटखा कंपनी के विरूद्ध कोई कार्यवाही की गयी है.

और कारवाँ बनता गया

शुरुआत मे जब ब्रह्मपाल इस तरह के विरोध के कार्य करता तो पुलिस के लोग और अधिकारी उसे सरफिरा कह कर या “मानसिक संतुलन ठीक नहीं है” कह कर टाल देते थे… लेकिन धीरे धीरे लोगों और पत्रकारों की उत्सुकता का केन्द्र बनता गया और ब्रह्मपाल के बारे मे ख़बरें छपने लगीं … इससे उसे जानने वालों मे इजाफा हुआ और कुछ समाज सेवी लोग ब्रह्मपाल से मिले और इसके अभियान मे साथ देने की इच्छा प्रकट की …इस तरह ब्रह्मपाल ने स्थानीय लोगों की मदद से “आज़ाद पुलिस वेलफेयर समिति” का गठन किया गया जिसका संस्थापक ब्रह्मपाल को  और अध्यक्ष श्री बी.एस.गौतम को बनाया गया …

आज़ाद पुलिस वेलफेयर समिति

आज़ाद पुलिस वेलफेयर समिति बन जाने से ब्रह्मपाल को लोगों का समर्थन और अधिक मिलने लगा …उक्त समिति के तत्वाधान मे बहुत से सामाजिक कार्यक्रम आयोजित किये गए और किये जाते हैं  …इस समिति के माध्यम से दो अनाथ और  गरीब लड़कियों का विवाह करवाया गया … प्रति वर्ष सावन माह मे कांवड के मेले मे इस समिति के माध्यम से कांवडियों के लिए मुफ्त भंडारे का आयोजन किया जाता है …वृक्षारोपण के कार्य करवाए गए जिसका उदघाटन स्वयं सिटी मजिस्ट्रेट ने अपने हाथों से किया …..इसके अतिरिक्त पल्स पोलियो जैसे सरकारी

कार्यक्रमों को भी  सफल बनाने के लिए रैलियाँ निकाली गयीं जिसके पीछे ब्रह्मपाल का जूनून और अथक संघर्ष रहा है … इसके अतिरिक्त गुजरात मे आये भूकम्प पीड़ितों के लिए अथक परिश्रम कर के चंदा इकठ्ठा किया गया और गुजरात भेजा गया…. इसके अतिरिक्त और भी बहुत से कार्य समय समय पर किये जाते रहते हैं… इस सम्बन्ध मे ब्रह्मपाल का कहना है कि जब लोग बुराई का दामन नहीं छोड़ते तो मै अच्छाई का दामन कैसे छोड़ दूँ … लोग कहते हैं क्रम ही पूजा है… लेकिन ब्रह्मपाल का कहना है कर्म तो बुरे भी हो सकते हैं इस लिए “सत्कर्म ही पूजा है” सब से पहले सत्कर्मों की शुरुआत अपने आप से करो … फिर किसी से इसकी अपेक्षा करो… समिति ने पुलिस की छवि सुधारने के लिए राज्य के 70 जिलों के जिलाधिकार्यों को पत्र लिखा है और आवश्यक सलाह दी है … देखना है कि प्रशासन इसे कितनी गंभीरता से लेती है ब्रह्मपाल को सामाजिक कार्यों के लिए कई बार आंबेडकर जन्मोत्सव समिति द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है … आज जब कि वह प्रशासन से नाराज़ है , उसने पिछले पन्द्रह सालों मे प्रशासन को लिखे गए अपने पत्रों को वापस माँगा है …

उल्लेखनीय है कि समाज के बारे मे ऐसी बातें करने वाले ब्रह्मपाल के पास सर छुपाने की भी जगह नहीं है और खुले आसमान के नीचे ही अपना आशियाना बना रखा है… परिवार के नाम पर ब्रह्मपाल की पत्नी और दो बेटे हैं … जिन्हें कभी किसी बरामदे मे तो कभी खुले आसमान के नीचे ले कर रहता है … दिन भर रिक्शा चलाना और इसी कमाई से समाज सेवा करना कितना कष्टसाध्य कार्य है इसे एसी मे बैठे अफसरशाह कैसे और क्यों समझेंगे … लोक सेवक हमारी प्रशासनिक व्यवस्था के आधार स्तंभ हैं … लेकिन भ्रष्टाचार के दलदल मे इस कदर डूबे हैं कि उन्हें स्वार्थ के अतिरिक्त कुछ भी नहीं दिखाई देता है … अगर कोई अपवाद आता भी है तो धीरे धीरे इसी भ्रष्टाचार रुपी सागर मे समा जाता है … अगर कोई बच भी गया तो स्थानांतरण आदेश की प्रति हमेशा उसका पीछा करती रहती है … ऐसे मे ब्रह्मपाल जैसा जज़्बा एक आम आदमी के लिए सीख से कम नहीं है… उसका कहना है कि कामयाबी अपनी जगह है और प्रयास करना अपनी जगह … जीते जी मेरा प्रयास चलता रहेगा … १९८८ से अकेला प्रशासन से लड़ जाने वाला यह शख्स प्रधानमन्त्री,लखनऊ सचिवालय,जिलाधिकारी, पुलिस अधिकारी से लेकर राष्ट्रपति तक अकेला संघर्ष कर चुका है .. और आज भी अपने जज्बे पर कायम है …

ब्रह्मपाल का वर्मान पता :

ब्रह्मपाल सिंह

लेखक : आज़ाद पुलिस

बरात घर, खुले आसमान के नीचे

नन्द ग्राम गाज़ियाबाद … फोन :9811394513 (PP)

और अन्त मे …… ब्रह्मपाल के दस्तावेज़ और संघर्ष की कहानी की ये बानगी भर है … बहुत संक्षिप्त और मूल मूल बातें लिखते हुए दो पोस्टें भर गयी हैं …पाठकों के समर्थन पर थोड़ा और प्रकाश डालना चाहूँगा ब्रह्मप्रकाश की व्यथा पर … पद्म सिंह

Advertisements

13 thoughts on “आज़ाद पुलिस (संघर्ष गाथा-२)

    jai kumar jha said:
    जुलाई 11, 2010 को 7:31 अपराह्न

    वाह-वाह क्या कहने इस आजाद पुलिस के ,शब्द ही नहीं है तारीफ के ,कास ऐसे लोग इस देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री बन पाते तो इस देश की ऐसी दुर्दशा नहीं होती | मैंने फोन मिलाया था ऐसे महान व्यक्ति से बात करने के लिए लेकिन किसी अगरवाल साहब से बात हुई जिनके यहाँ ब्रह्मपाल जी काम करते है ,मैं दुबारा जरूर बात करने का प्रयास करूंगा क्योकि ऐसे लोग सही मायने में इस देश के आज के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से भी बेहतर हैं |

      padmsingh responded:
      जुलाई 11, 2010 को 7:40 अपराह्न

      जय कुमार जी … जिसके पास ठीक से खाने को नहीं है और सर पर छत नहीं है वो मोबाइल कैसे रख सकता है … इसी लिए मैंने उसका PP नम्बर दिया है … साधुवाद आपका इस संवेदनशीलता के लिए

    ललित शर्मा said:
    जुलाई 11, 2010 को 7:43 अपराह्न

    अगर ब्रह्मपाल जैसी आजाद पुलिस हर शहर में हो जाए तो भारत का नक्शा ही बदल जाएगा।
    भ्रष्ट्राचारी लोगों को भ्रष्ट्राचार करने से पहले एक बार सोचना पड़ेगा और आफ़िसों में एक ही डायलॉग सुनाई देगा-“जरा चौकन्ने होकर, कहीं आजाद पुलिस न आ जाए”

    बहुत अच्छी पोस्ट
    अगले हफ़्ते बुलंद छत्तीसगढ के लिए बुक

    समीर लाल said:
    जुलाई 11, 2010 को 8:52 अपराह्न

    आजाद पुलिस के बारे में जानकर अच्छा लगा. बहुत बढ़िया जानकारीपूर्ण आलेख.

    jai kumar jha said:
    जुलाई 11, 2010 को 9:11 अपराह्न

    पद्म सिंह जी आपकी जितनी तारीफ की जाय इस पोस्ट के लिए वो कम है ,आपने ब्लॉग पर ऐसे सही मायने में इन्सान और महान व्यक्ति को जगह देकर ब्लोगिंग को सार्थक बनाया है जिसके लिए मैं आपका सदा आभारी रहूँगा | आप हो सके तो हमें 09810752301 पर फोन करें मैं आपके साथ ही समय निकालकर ब्रह्मपाल जी से मिलना चाहूँगा अगर आपको कोई एतराज न हो तो |

      padm singh responded:
      जुलाई 11, 2010 को 9:52 अपराह्न

      जय कुमार जी … साधुवाद देना चाहता हूँ आपकी संवेदनशीलता के लिए?… मेरा लिखना सार्थक हो गया … मै बहुत शीघ्र आपसे संपर्क करता हूँ … धन्यवाद

    indu puri said:
    जुलाई 11, 2010 को 11:33 अपराह्न

    ब्रहमपाल जी के बारे में पधा. आश्चर्य ! विकत परिस्थिति में भी इस आदमी ने अपने साथ हुए अन्याय के वुरुद्ध एक सकारात्मक और रचनात्क रास्ता चुना और लोगों को उन सब अन्यायों से बचाने के लिए विरोध के लिए जो बिगुल बजाय है एक दिन उन्हें इसमें सफलता मिलेगी. हर भारतीय यदि इसी तरह अव्यवस्था के विरुद्ध आवाज उठाने लगे तो व्यवस्था में बदलाव जरूर आएगा. कुछ ऐसी ही हूँ मैं भी. दो बार गलत बात पर मैंने राजस्थान ब्र में प्रशासन को हिला कर रख दिया.सी.एम. वसुधरा राजे सिंधिया को मुझे फोन करना पड़ा और चित्तोड प्रशासन कि उन्होंने खिचाई कर दी.
    एक बार पूरे राजस्थान में ‘ऑपरेशन मजनू’ शुरू करवा दिया.
    क्यों हम किसी गलत बात या अन्याय के विरुद्ध आवाज नही उठाते?
    देखते रहते हैं जब तक हमारे साथ ना हो तमाशबीन बने रहते हैं यही कारण है तब हम भी अकेले रह जाते हैं.एकजुट ना होने की हमारी इसी कमी का फायदा अब तक नेता और प्रशासन उठता रहा है और आगे भी उठाते रहेंगे.
    पर….ब्रह्मपालजी जैसे व्यक्ति समाज की नीव के पत्थर भले रह जाये .वे प्रेरणा स्रोत बने रहेंगे हम जैसो के लिए.
    पद्म! आपको धन्यवाद कि आपने जीवन के असली ‘हीरो’से मिलवाया.

    प्रवीण पाण्डेय said:
    जुलाई 12, 2010 को 1:49 पूर्वाह्न

    जीवटता सम्माननीय है।

    jai kumar jha said:
    जुलाई 17, 2010 को 9:43 पूर्वाह्न

    कल रत 08:23 पे ब्रह्मपाल जी का फोन आया ,मुझे अपार प्रसन्नता हुई ब्रह्मपाल जी से बात करके और मैं तुरंत ही एक पोस्ट ब्रह्मपाल जी की तारीफ में लिखे वगैर नहीं रह सका आप भी पढ़िए -http://jantakireport.blogspot.com/2010/07/blog-post.html बहुत जल्द ही मैं ब्रह्मपाल जी से मिलने का प्रोग्राम बनाता हूँ और गाजियाबाद आता हूँ |

    राम त्यागी said:
    जुलाई 19, 2010 को 9:12 पूर्वाह्न

    बहुत ही सार्थक लेख, मैं देखता हूँ यहाँ से मैं कैसे उनकी सहयता कर सकता हूँ !
    आपने ब्लॉग्गिंग को एक नया आयाम दिया है …बहुत बहुत धन्यवाद !!

      padmsingh responded:
      जुलाई 19, 2010 को 7:58 अपराह्न

      आपकी संवेदना के लिए धन्यवाद … किसी प्रकार की सहायता के सम्बन्ध में इस पर मेल करें azadpolice@gmail.com आपकी सम्वेदना भरी टिप्पणियां और ईमेल भी ब्रह्मपाल जी को शक्ति और उत्साह देती हैं … आर्थिक मदद ही हो कोई ज़रूरी नहीं

    […] पोस्टों आज़ाद पुलिस संघर्ष गाथा-१, आज़ाद पुलिस संघर्ष गाथा- २ और आज़ाद पुलिस (संघर्ष गाथा –३) के […]

    प्रखर said:
    नवम्बर 14, 2012 को 12:27 पूर्वाह्न

    मैं इनसे २ दिन पहले मिला था जब ये रिक्शा लेकर मेरे यहाँ कुछ समान पहुचाने आये थे बाद में इनके बारे में पता चला जब मैं आजाद पुलिस के बारे में नेट पर सर्च किया. मैं नहीं जनता कि क्या कहूं पर शायद ऐसे ही कुछ लोगो कि वजह से ये देश अभी तक चल रहा है
    आजाद पुलिस मेरा आपको सलाम..!
    जय हिन्द

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s