मैदान साफ़ होगा

मजहब के नाम पर

दुनियाको बाँटने वालो

आतंक के रहनुमाओं की

जूतियाँ चाटने वालो

माँ भारती की अस्मत को

कतरा कतरा काटने वालो

अफजल या कसाब होगा

हमें विचलित करना

उनका ख्वाब होगा

इन्साफ अभी तक बाकी है

ये न समझना छोड़ देंगे

एक ऊँगली जो उठी हमारी तरफ

उसे हाथ सहित ही तोड़ देंगे

कश्मीर के सपने

जितने चाहे बुन लो

पर एक बात गौर से सुन लो

मचले हुए समंदर में

कश्ती की सैर नहीं करते

मेमने के बच्चे कभी

शेरनी से बैर नहीं करते

यदि भूल गए हो

तो दिखाएँ तुम्हे दर्पण

कर्नल नियाजी ने किया

घुटनों पे समर्पण

क्या भूल गए

कारगिल वाली बात

या बार बार दिखानी होगी

तुम्हारी औकात

जो छद्म युद्ध तुमने

ठान रखा है

अपने पडोसी को

दुश्मन मान रखा है

इस तरह मत ले

सब्र का इम्तहान

वर्ना एक पल में

तेरे वजूद तक को

जन्झोड देंगे

जिस लहू का दरिया

तू बहाना चाहता है

उसमे भरेंगे आग का सैलाब

और तेरी जानिब

मोड़ देंगे

अंजाम सामने है

ज़रा आईना तो देख

आतंक की आग में

नफरत की रोटियां न सेंक

पालतू भेड़ियों के हाथ है

तेरी गर्दन की नाप

देख तुझे ही डंस रहे है

तेरे आस्तीन के सांप

अगर गफलत में हो

तो जता दें

हमने सोचा एक बार

और बता दें

ये परमाणु बम सब

धरे रह जायेंगे

ये गोले और गोलियाँ

बंकरों में भरे रह जायेंगे

सपनों में अपने

सितारे न नोच

ज़रा आगे की सोच

और ठीक से सुन

अच्छी नियति

और शांति का रास्ता चुन

वर्ना तो एक ही हल

एक ही इंसाफ होगा

सवा अरब की दरिया

की एक जुम्बिश

और दिल्ली से इस्लामाबाद  तक

मैदान साफ़ होगा

3 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. Pradeep Mishra
    जनवरी 27, 2010 @ 12:15:17

    sunder rachana. dhyan ye dilana hai ki december mein bhi aisi hi ek kavita aap likh chuke hai, kya 26 january kee kavita use ka sanshodhit roop hai.
    bavjood iske kavita mein vyakt kiye gaye bhav ks liye badhai.

    प्रतिक्रिया

  2. Anamika
    जनवरी 29, 2010 @ 22:30:17

    me pehli baar apke blog per aayi..aur mafi bhi chaahti hu itni dair se aane k liye. apko pehli baar padha…aap to bahut acchha likhte hai…jhakjhor diya aapke lekhan me…aapke lekhan se jhalakti is desh-bhakti ko salute karti hu.

    प्रतिक्रिया

  3. nauka jazdy warszawa
    फरवरी 27, 2011 @ 02:00:52

    Regards for this post, I am a big fan of this internet site would like to proceed updated.

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: