चाँद में कुछ बात होगी

लोग यूँ ही नहीं करते सजदे
उसकी अपनी भी कुछ औकात होगी
मै बुलाता हूँ जो तुमको चाँद
तो चाँद में कुछ बात होगी

4 टिप्पणियाँ (+add yours?)

  1. mehek
    दिसम्बर 19, 2009 @ 13:01:16

    waah bahut sunder,chand mein vakiye kuch baat hai,isliye duniya uski deewani hai.

    प्रतिक्रिया

  2. mehek
    दिसम्बर 19, 2009 @ 17:20:42

    nlogvani par register karne ke liye
    http://www.blogvani.com
    aur http://www.chitthajagat.in
    par jaaye,waha panjikaran (register karwa le.
    lohin ya register column waha maujood hoga.
    jyada se jyada blog padhne se aur jyada comment karne se,log jaanane aur pehchanane lagte hai.shayad comment paane ka ye ek tarika hai.

    प्रतिक्रिया

  3. indu puri
    दिसम्बर 20, 2009 @ 00:30:49

    मैं बुलाता हूँ जो तुमको चाँद
    तो चाँद में कुछ बात होगी ‘
    ओह ! सराहना किसकी कर रहे हो आसमां के चाँद की या
    धरती के अपने चाँद की ?
    क्या इतना भी नही जानते
    वो आसमां से झांक कर बस लुभाता है,
    तुम कितना ही सराहो कब कहा मानता है
    ये अपना चाँद,जरा सा विकल हो तो तुम अगर
    तुमसे ज्यादा विकल हो जाता है
    ,तभी तो बस तुम्हारा चाँद कहलाता है
    तो….प्यारा कौन ?

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: